Total Pageviews

Monday, December 13, 2010

स्वागत गीत

स्वागतम, स्वागतम स्वागतम स्वागतम

आप आए चमन में बहार आ गई

कोकिला गा उठी स्वागतम स्वागतम 

आप आए हृदय शतदल खिल गए

चिर-प्रतीक्षित तपस्या के फल मिल गए

मन के उपवन में बुलबुल चहकने लगी

भँवरे गाने लगे स्वागतम स्वागतम 

करने चरणों में अर्पित श्रध्दा सुमन

राह में झुक गया है सारा गगन

आके प्रकृति सुंदरी, हाथ जोड़े खड़ी

गा उठा है पवन स्वागतम स्वागतम 

आप आए हमें इक निधि मिल गई

एक अकिंचन को पारसमणि मिल गई

अब खुशियों की वर्षा है होने लगी

मन मयूर गा उठे स्वागतम स्वागतम।     

No comments:

Post a Comment